आतंकवादियों से टक्कर लेने वाले शौर्य चक्र विजेता की गोली मारकर हत्या

16/10/2020,9:17:33 PM.

अमृतसर/चंडीगढ़  (एजेंसी)। पंजाब में आतंकवाद के दौरान आतंकवादियों से सीधी टक्कर लेने वाले शौर्य चक्र विजेता कामरेड बलविंदर सिंह की शुक्रवार को भिखीविंड में गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना के समय वे अपने स्कूल मे थे। वे आतंकवादियों की हिट लिस्ट में थे। आतंकवादियों से टक्कर लेने के चलते ही उन्हें शौर्य चक्र दिया गया था।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बलविन्दर सिंह पर हुए जानलेवा हमले के सभी पहलुओं की जांच करने के लिए फिऱोज़पुर के डी.आई.जी. के नेतृत्व में विशेष जांच टीम (एस.आई.टी.) का गठन करने का आदेश दिया है। कामरेड बलविन्दर पर आतंकवाद के दौरान 42 ऐसे हमले हुए थे जो पुलिस रिकार्ड में थे। उन्हें सुरक्षा भी दी गई थी, लेकिन तरनतारन पुलिस की सिफारिश पर उनकी सुरक्षा वापस ले ली गयी थी। उनका पूरा परिवार आतंकवादियों के निशाने पर रहा है।

बलविंदर सिंह ने आतंकवाद के दौरान कई बार आतंकवादियों से मुकाबला करके उन्हें खदेड़ा था। परिवार के सदस्यों अनुसार कुछ अज्ञात लोगों ने पिस्तौल से उनपर गोलियां दागीं जिससे उनकी मौके पर मौत हो गई। पुलिस सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है। मुख्यमंत्री ने बलविन्दर सिंह की मौत पर दुख प्रकट करते हुए डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता को शीघ्र जांच करने का आदेश दिया हैं। डी.जी.पी. ने बताया कि एस.आई.टी में फिऱोज़पुर के डी.आई.जी. हरदयाल मान के अलावा यह टीम तरन तारन के एस.एस.पी. घुम्मन निम्बल और भिखीविंड के डी.एस.पी. राजबीर सिंह शामिल हैं।

डी.जी.पी. ने बताया कि बलविन्दर को उसके भिखीविंड में स्थित घर में आज सुबह 7 बजे के करीब अज्ञात हमलावरों ने मार डाला। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इस इलाके की सी.सी.टी.वी. फुटेज में दिखाया गया है कि दो अज्ञात हमलावर प्रात:काल मृतक के घर पहुँचे और इनमें से एक ने घर के परिसर में दाखि़ल होकर पास से गोली चलाई। वाहन के विवरण और इसके रजिस्ट्रेशन नंबर की जाँच की जा रही है।
एफ.आई.आर. नंबर 174/20 के अंतर्गत अज्ञात व्यक्तियों के खि़लाफ़ आई.पी.सी. की धारा 302, 34 और आर्म्स एक्ट की धारा 25, 27 के अंतर्गत केस दर्ज किया गया है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 5 =