इस बार फरवरी में नहीं भी हो सकती है माध्यमिक परीक्षा, विधानसभा चुनाव के बाद संभव

07/10/2020,10:29:58 AM.

कोलकाताः महामारी कोरोना वायरस ने दुनियाभर में बहुत कुछ बदला है जिसमें छात्रों की पढ़ाई और परीक्षाएं भी शामिल हैं। पश्चिम बंगाल राज्य शिक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार इस बार फरवरी महीने में माध्यमिक परीक्षा नहीं भी हो सकती है। ऐसी स्थिति में यदि फरवरी या मार्च के शुरू में माध्यमिक परीक्षा नहीं होती है तो फिर 2021 की माध्यमिक परीक्षा विधानसभा चुनाव के बाद आयोजित हो सकती है और काफी विलंब हो सकता है।

स्कूल शिक्षा विभाग के अनुसार माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष कार्तिक चंद्र मन्ना और सिलेबस कमेटी के अध्यक्ष अभीक मजुमदार ने हाल ही में माध्यमिक परीक्षा और पाठ्यक्रम को लेकर स्कूल शिक्षा सचिव के साथ एक बैठक की थी। सूत्रों के अनुसार उस बैठक में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा किसी विशेष समय सीमा या पाठ्यक्रम का उल्लेख नहीं किया गया था। हालांकि, दो बोर्ड पहले ही सीबीएसई 10वीं और 12वीं परीक्षाओं और आईसीएसई पाठ्यक्रम पर 10वीं और 12वीं परीक्षाओं के पाठ्यक्रम की घोषणा कर चुके हैं। फरवरी में माध्यमिक परीक्षा नहीं होने के कई कारण सामने आ रहे हैं।

यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि 2021 की माध्यमिक परीक्षा पाठ्यक्रम के कितने भाग के आधार पर आयोजित होगी। अगर सिलेबस में बदलाव किया जाता है, तो छात्रों को तैयारी के लिए न्यूनतम समय सीमा देनी होगी। उस मामले में स्कूल शिक्षा विभाग के कुछ अधिकारियों का मानना है कि पांंच-छह महीने देना नितांत आवश्यक है। इस वर्ष की माध्यमिक परीक्षा का शिड्यूल आमतौर पर माध्यमिक परीक्षा के परिणामों के प्रकाशन के दिन घोषित किया जाता है। लेकिन पिछले दो वर्षों से न्यूनतम सात से आठ माह के बाद परीक्षाा सूची की घोषणा की जा रही है। इस वर्ष अक्टूबर का पहला सप्ताह पूरा हो गया है, लेकिन अभी तक परीक्षा कार्यक्रम की घोषणा नहीं की गई है। इसलिए भले ही छात्रों को न्यूनतम पांच से छह महीने का समय दिया जाए, लेकिन फरवरी में किसी भी तरह से परीक्षा संभव नहीं लग रहा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =