कमला हैरिस को अमेरिका में उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बनाए जाने से एशियाए समुदाय में खुशी

13/08/2020,5:58:00 PM.

लॉस एंजेल्स (हि.स)। कैलिफ़ोर्निया सिनेटर भारतीय मूल की कमला हैरिस उपराष्ट्रपति पद की पहली अश्वेत महिला उम्मीदवार के तौर पर घोषणा की गई है। इससे अमेरिका के भारतीय मूल के लोगों में काफी खुशी है। यह खुशी अमेरिका में रह रहे एशियाई और कैरेबिआई समुदाई में भी देखी जा रही है।

55 वर्षीय कमला की माँ भारतीय और पिता जैमेका के थे। तेज़ तर्रार कमला राष्ट्रपति पद-2020 पद की उम्मीदवार थीं, किंतु पहली प्राइमरी के बाद ही इस दौड़ में अपने अन्यान्य उम्मीदवारों से पिछड़ने और पर्याप्त चंदा बटोर नहीं पाने के कारण उन्होंने नाम वापस ले लिया था। बाइडन चाहते राष्ट्रपति की पद की दौड़ में सफल उम्मीदवारों में एलिज़ाबेथ वारेन अथवा ले सकते थे। लेकिन ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ आंदोलन के बाद देश में तेरह-चौदह प्रतिशत अश्वेत मतदाताओं का सहयोग अर्जित करने के लिए डेमोक्रेट उम्मीदवार जोई बाइडन के पास अश्वेत महिलाओं में सुशिक्षित अग्रणी, अटार्नी और सिनेटर कमला हैरिस का चयन करने के सिवा कोई विकल्प नहीं था।

कमला हैरिस जीत जाती हैं, तो निश्चित तौर पर वह अपने मौजूदा चुनावी ढाँचे के साथ अगले चुनाव में राष्ट्रपति पद के लिए अपना भाग्य ज़रूर आज़माएँगी। कहा जा रहा है कि कैलिफ़ोर्निया की एक सफल अटार्नी जनरल का दायित्व निभाने के बाद वह न्यायिक अपराधों में पुलिस अधिकारों पर ज़ोर देंगी, जिसके लिए अश्वेत समुदाय लंबे अरसे से निगाहें लगाए हुए हैं। यूं तो कमला एक समाजवादी नज़रिए से वाल स्ट्रीट और वित्तीय जगत के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाती रही हैं।

कमला हैरिस की माँ श्यामला 1960 में उच्च शिक्षा के लिए भारत से आई थीं, तो पिता डोनाल्ड हैरिस जमैका से। इसलिए कमला पहली अश्वेत महिला बन गई जो एक एशियन अमेरिकन के रूप में पहली बार इतने बड़े पद के लिए चुनाव लड़ रही हैं। कमला महिला मतों के लिए ही नहीं, अश्वेत मत बटोरने में बाइडन की सहायक होंगी। कमला ने पहली चुनावी सफलता डिस्ट्रिक्ट अटार्नी (सन 2003) के रूप में पाई। इसके बाद ही वह कैलिफ़ोर्निया की अटार्नी जनरल बनी थी। एक अटार्नी के रूप में उनकी सफलता दर 76 प्रतिशत बताई जाती है। वह वस्तुत: मृत्यु दंड दिए जाने के ख़िलाफ़ हैं, न्यायिक व्यवस्था में व्यापक सुधार की हिमायती हैं। ‘फ़ोर्बेज’ के अनुसार वह और उनके पति डग्लस एमहोफ बड़े धनी नहीं हैं। हालाँकि उनके पास सैन फ्रांसिसको, लॉस एंजेल्स और वाशिंगटन में घर-जायदाद हैं। वह पिछले चुनाव (सन 2016) में डेमोक्रेट सिनेटर बनीं और प्रवासी भारतीय समुदाय ख़ास कर एच-1बी और उनके परिवार जनों के हितों को लेकर सीनेट में आवाज़ उठाती रही हैं। हैरिस ट्रम्प और माइक पेंस की मुखर विरोधी रही है। इसी कमला ने आठ महीने पहले राष्ट्रपति चुनाव प्राइमरी के दौरान जोई बाइडन को नस्लीय कहा था।

आश्चर्यचकित ट्रम्प : राष्ट्रपति डोनाल्ड ने कमला हैरिस के चयन पर आश्चर्य जताया है। जोई बाइडन की घोषणा के बाद ट्रम्प ने अपनी नियमित प्रेस ब्रीफ़िंग में कहा कि वह बाइडन के प्रति अनादार का भाव रखती रही है, फिर ऐसी अल्हड़ महिला को कैसे चुन लिया?

कमला हैरिस एक नज़र में

नाम : कमला देवी हैरिस ( भारतीय-जैमेका अमेरिकी)

जन्म : 20 अक्टूबर, 1964, आकलैंड, कैलिफ़ोर्निया

शिक्षा : बीए राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र 1986, हारवर्ड, ला डिग्री 1989

मां : डा. श्यामला गोपालन, तमिल, ब्रेस्ट कैंसर विशेषज्ञ, अमेरिका में 1960 में आईं

पिता : डोनाल्ड हैरिस, प्रोफ़ेसर, इकनामिकस, स्टेनफ़ोर्ड, सैन फ़्रांसिस्को

डिस्ट्रिक्ट अटार्नी : 2004 से 2009

स्टेट अटार्नी जनरल : 2010 से 2016

सिनेटर : 2016 से

शुभ चिन्तक : बराक ओबामा

विवाह : सन 2014, डग्लस एमोफ

सीनेट कमेटी : इंटेलीजेंस और जुडिसरी

पुस्तक : दि ट्रूथ वी होल्ड -जनवरी 2019

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 + eighteen =