कोलकाता में थाना प्रभारी स्तर पर बड़ा फेरबदल, 89 अधिकारियों का तबादला

27/11/2020,9:50:39 PM.

 

कोलकाता: कोलकाता पुलिस में थाना प्रभारी स्तर पर एक बड़ा फेरबदल हुआ है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, थाना प्रभारी, अतिरिक्त प्रभारी और विभिन्न पुलिस स्टेशनों की विशेष शाखा सहित विभिन्न स्तरों पर व्यापक बदलाव किए गए हैं। राज्य में आने वाले दिनों में प्रशासनिक स्तर और अधिक फेरबदल की योजना है। पुलिस अधीक्षक और जिला मजिस्ट्रेटों को भी स्थानांतरित किया जा सकता है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, 89 लोगों का तबादला किया गया है। इनमें सबसे महत्वपूर्ण कालीघाट पुलिस स्टेशन के ओसी शांतनु सिंह विश्वास हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का घर कालीघाट पुलिस स्टेशन के अधीन है। सूत्रों के अनुसार उस पुलिस स्टेशन के ओसी शांतनु को विशेष शाखा में भेजा जा रहा है। उनकी जगह रवींद्र सरोबर पुलिस स्टेशन के ओसी जयंत मुखर्जी को लाया जा रहा है।

कालीघाट पुलिस स्टेशन के अतिरिक्त ओसी सत्यजीत करमाकर को रबींद्र सरोबर पुलिस स्टेशन के ओसी के रूप में भेजा जा रहा है। इसके अलावा, बउबाजार पुलिस स्टेशन ओसी सिद्धार्थ चक्रवर्ती को इकबालपुर पुलिस स्टेशन भेजा जा रहा है। जोड़ासॉकों पुलिस स्टेशन के ओसी मुकुल रंजन घोष को कोलकाता पुलिस के खुफिया विभाग में भेजा गया है। जादवपुर पुलिस स्टेशन के ओसी अमित डे सरकार को शेक्सपियर सरणी पुलिस स्टेशन भेजा गया है। शुभाशीष अधिकारी को नेताजी नगर से चारू मार्केट थाने में भेजा गया है। पर्णश्रीके पुलिस ओसी मनोज कुमार को विशेष शाखा में पोस्टेड किया गया है।

आनंदपुर पुलिस स्टेशन के ओसी देवबल कुमार दास को कोलकाता पुलिस के खुफिया विभाग में स्थानांतरित किया गया है। करया पुलिस स्टेशन के ओसी अब्दुल्ला सना को एंटाली में स्थानांतरित किया गया है। पर्णश्री पुलिस स्टेशन के एओसी महुआ बिस्वास को अतिरिक्त ओसी के तौर पर बालीगंज में स्थानांतरित किया गया है। संयोगवश, राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब शुक्रवार को जिला मजिस्ट्रेट के साथ बैठक किए हैं विधानसभा चुनाव के छह महीने देर से होने के बावजूद, उनके कदम को राजनीतिक हलकों द्वारा चुनावी तैयारी के रूप में देखा जा रहा है। चुनाव से पहले जिला पुलिस के सुपर स्तर पर बड़े फेरबदल की संभावना भी बढ़ रही है।

सूत्रों के अनुसार कई जिलों के एसपी का तबादला हो सकता है। जिला मजिस्ट्रेटों को भी स्थानांतरित किया जा सकता है। दरअसल, चुनावों की भागदौड़ में, विपक्ष ने राज्य के विभिन्न पुलिस स्टेशनों के ओसी, एओसी, एसपी और जिला मजिस्ट्रेटों के खिलाफ विभिन्न आरोप लगाने शुरू कर दिए हैं। चुनाव आयोग को भी इस संबंध में कई शिकायतें मिली हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + three =