क्रिसमस पर कोलकातावासियों को केएमसी का तौफा, हुईं कई परियोजनाओं की घोषणा

25/12/2020,8:37:40 PM.

 

कोलकाताः क्रिसमस के दिन कोलकाता नगर निगम (केएमसी) की ओर से शहर वासियों के लिए कई परियोजनाओं की सौगात दी गयी है। पानी की कमी को दूर करने के लिए दक्षिण कोलकाता के बुरो शिबताला मेन रोड पर एक आंशिक भूमिगत जलाशय और बूस्टर पंपिंग स्टेशन की आधारशिला रखी गयी है।

संपूर्ण परियोजना की आधारशिला रखते हुए, कोलकाता नगरनिगम बोर्ड के अध्यक्ष, फिरहाद हकीम ने कहा कि वर्तमान में शहर में प्रतिदिन 490 मिलियन गैलन पानी की सप्लाई हो रही है। उत्पादित पानी पर्याप्त मात्रा में शहर में पहुंचे, यह सुनिश्चित करने के लिए आपूर्ति प्रणाली में सुधार के साथ-साथ गार्डनरिच, धापा जल परियोजना की जल उत्पादन क्षमता बढ़ाई जा रही है। गरिया में नई जल परियोजना बनाई जा रही हैं। जलाशय और बूस्टर पंपिंग स्टेशन सहित परियोजना की कुल लागत लगभग पांच करोड़ 70 लाख रुपये है। जलाशय 13 लाख लीटर पानी रखने में सक्षम है। इस बूस्टर के माध्यम से गार्डनरिच जल परियोजना से पानी की आपूर्ति की जाएगी।

फिरहाद हकीम ने कहा कि परियोजना को एक साल के भीतर पूरा करने का लक्ष्य है। इस बीच शहरी विकास विभाग ने दक्षिण कोलकाता के सबसे महत्वपूर्ण पुलों में से एक कालीघाट और बाघाजतीन पुलों की मरम्मत के लिए निविदाएं आमंत्रित की हैं।

विभाग के सूत्रों के अनुसार, यातायात को चालू रखते हुए दो पुलों की मरम्मत का निर्णय लिया गया है। दोनों पुलों की मरम्मत का काम अगले साल मार्च से शुरू हो सकता है। कालीघाट पुल की मरम्मत में छह महीने और बागाजतीन पुल को पूरा करने में एक साल का समय लग सकता है। शहरी विकास विभाग के अनुसार, कालीघाट पुल की मरम्मत के लिए लगभग 12 करोड़ और बाघाजतीन पुल की मरम्मत के लिए लगभग 42 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि माझेरहाट पुल के ढहने के बाद, राज्य सरकार द्वारा गठित पुल विशेषज्ञ समिति ने शहर के फ्लाईओवरों के स्वास्थ्य की जांच की और इन दो पुलों के साथ-साथ चिंगरीहाटा, विद्यापति, बिजन पुल, चेतला पुल, अरविंद ब्रिज और उल्टाडांगा ब्रिज की मरम्मत की सिफारिश की है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − nine =