जंगलमहल में नक्सलवाद का भय फैला रही हैं ममता : विजयवर्गीय

13/10/2020,8:50:34 PM.

कोलकाताः भाजपा के महासचिव व प्रदेश भाजपा के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता जी जंगलमहल में आदिवासियों के बीच नक्सवालियों का डर व भय फैलाना चाहती हैं, लेकिन जंगलमहल का आदिवासी अब नक्सलवाद नहीं चाहता है और न ही अब डरता है। अगले चुनाव में आदिवासी तृणमूल कांग्रेस की कटमनी की सरकार को उखाड़ फेकेंगे, जो उनके अधिकारों से उन्हें वंचित कर रही है।विजयवर्गीय मंगलवार दोपहर को पश्चिम मेदिनीपुर के शिलदा-बिनपुर में सभा को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं।

सभा में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल राय, प्रदेश भाजपा की उपाध्यक्ष भारती घोष व झाड़ग्राम के सांसद कुनार हेमब्रम भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर बड़ी संख्या में पूर्व सैनिक, तृणमूल व झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता भाजपा में शामिल हुए। विजयवर्गीय ने कहा कि झाड़ग्राम में यह सभा फेल हो, इसके लिए सरकार ने पूरी ताकत लगायी थी। गाड़ियां उपलब्ध नहीं होने दीं। आदिवासियों को आने से रोका। इसके बावजूद विशाल संख्या में लोग आये जो नक्सलवादी गतिविधि का केंद्र बनाकर ममता जी डर व भय व्याप्त करना चाहती हैं। आज स्पष्ट हो गया कि आदिवासी अब नक्सलवाद नहीं चाहता। डर और भय से डरने वाला नहीं है। प्रशासन से रोकने बड़ी संख्या में भाजपा में शामिल हुए और नरेंद्र मोदी पर विश्वास जताया। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी की सरकार ने आदिवासी क्रांतिकारियों को सम्मान नहीं दिया है। भाजपा की सरकार बनेगी, तो आदिवासी क्रांतिकारियों को सम्मान दिया जायेगा।

विजयवर्गीय ने कहा कि झाड़ग्राम में आदिवासी पिछले 70 वर्षों से रह रहे हैं, लेकिन आदिवासियों को उनकी जमीन का पट्टा नहीं दिया गया है। भाजपा की सरकार बनी, तो हर आदिवासी को जमीन का पट्टा मिलेगा और सभी को आवास मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत देश के सभी दलितों व आदिवासियों को प्रधानमंत्री ने आवास दिया है, लेकिन ममता बनर्जी की कटमनी सरकार ने आदिवासियों को उनके मकान से वंचित कर रखा है। मोदी जी केंद्र सरकार से आदिवासियों को कल्याण के लिए पैसे भेजते हैं, तो कटमनी और तोलाबाजी की सरकार उसे हड़प लेती है। इस कटमनी की सरकार को अगले चुनाव में हटाना होगा। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल राय ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की सरकार कहती है कि सभी वादे पूरी कर दिये, लेकिन अभी तक आदिवासियों के पास रोजगार नहीं है। आदिवासी रोजगार चाहते हैं, भिक्षा नहीं। यह सरकार केवल खैरात व दान बांट रही है, लेकिन आदिवासियों को रोजगार चाहिए, खैरात और दान नहीं। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनी, तो वे सभी अधिकार मिलेंगे, जो अभी तक नहीं मिले हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 8 =