जय श्री राम का नारा लगा तो ममता ने विरोध में नहीं दिया अपना भाषण

23/01/2021,5:55:19 PM.

कोलकाताः नेताजी की जयंती पर शनिवार की शाम हुए कोलकाता के प्रसिद्ध विक्टोरिया मेमोरियल प्रांगण में हुए एक विशेष कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाषण देने से इनकार कर दिया। मुख्यमंत्री जब भाषण देने आयीं तो उसी दौरान दर्शकों में मौजूद कई लोगों ने जय श्री नाम का नारा लगा दिया। इससे क्षुब्ध हो कर ही ममता बनर्जी ने भाषण देने से इनकार कर दिया। केंद्र सरकार की ओर से आयोजित पराक्रम दिवस समारोह में सौजन्यता निभाने के लिए प्रोटोकॉल के तहत ममता बनर्जी प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में पहुंचीं तो जरूर लेकिन संबोधन से पहले कुछ ऐसा हुआ जो उन्हें रास नहीं आया। इसकी वजह से नाराज ममता ने मंच छोड़ दिया है।

ममता बनर्जी ने सिर्फ इतना ही कहा कि एक सरकारी कार्यक्रम में इस तरह का व्यवहार नहीं होना चाहिए। यहां बुलाकर मुझे बेइज्जीत किया जा रहा है। इसके विरोध में मैं भाषण नहीं दूंगी। और वह धन्यवाद कहकर अपनी सीट पर बैठ गईं। कार्यक्रम की शुरुआत में भारत सरकार के संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल ने नेताजी की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के संबंध में अ्पना व्यक्त्व दिया था। उसके बाद उद्घोषक ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भाषण देने के लिए बुलाया। लेकिन जैसे ही उनके नाम की घोषणा हुई किनारे खड़े कुछ लोगों ने जयश्री राम का नारा लगाना शुरू कर दिया। इससे ममता काफी क्षुब्ध हो गईं। इसके विरोध में ही उन्होंने भाषण देने से इनकार कर दिया। दरअसल कार्यक्रम में ऊषा उत्थुप की “एकला चलो” प्रस्तुति के बाद संबोधन के लिए ममता बनर्जी का नाम अनाउंस किया गया था। लेकिन माइक में ममता बनर्जी का नाम सुनते ही विक्टोरिया मेमोरियल और आसपास के लोगों ने जय श्री राम के नारों का उद्घोष करना शुरू कर दिया। इससे ममता बनर्जी चिढ़ गयीं और नाराजगी में भाषण भी नहीं दिया। वह मंच से उतरकर बाहर चली गयीं। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ विक्टोरिया मेमोरियल में ही मौजूद हैं। माना जा रहा है कि इस घटना की वजह से राज्य की राजनीतिक सरगर्मी बढ़ने वाली है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 4 =