टीएमसी एक परिवार की पार्टी जबकि भाजपा के लिए पार्टी ही परिवारः नड्डा

09/12/2020,10:00:31 PM.

कोलकाताः भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बंगाल के दो दिवसीय दौरे का बुधवार को शुरुआत करते हुए कोलकाता में कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। जहां उन्होंने ममता बनर्जी के गढ़ भवानीपुर में गृह संपर्क अभियान किया, वहीं कालीघाट मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना की।

बाद में नड्डा ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि बंगाल में 130 कार्यकर्ताओं ने अपनी जान दे दी, मैंने यहां 100 कार्यकर्ताओं का तर्पण खुद किया है। क्या ये वही बंगाल है जो अपनी संस्कृति के लिए जाना जाता था? ये इंसानियत के भी विरुद्ध हैं और ये राजनीतिक असहिष्णुता की पराकाष्ठा है। मैं बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं कि वो हिम्मत के साथ जुटे हुए हैं।

उन्होंने जोर देकर कहा कि मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि हमारा कार्यकर्ता 2021 में ममता सरकार को उखाड़ के फेकेंगे। कार्यालय संस्कार के केंद्र हैं, भाजपा कार्यालय से चलती हैं। अन्य पार्टियां घरों से चलती हैं, यहीं उनके कार्यालय हैं। अन्य दलों के लिए परिवार ही पार्टी है, टीएमसी भी इससे अलग नहीं है, वो भी परिवार की पार्टी बन गई है। लेकिन भाजपा के लिए पार्टी ही परिवार है।

उन्होंने कहा कि असहिष्णुता का दूसरा नाम है  बंगाल। रवीन्द्रनाथ जी ने जिस तरह से देश को दृष्टि दी वो सभी जानते हैं, लेकिन आज बंगाल में असहिष्णुता बढ़ती जा रही है। बंगाल में भाजपा ने एक लंबी लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कहा कि 9 साल पहले बंगाल में हमारा वोट प्रतिशत 4 था। 2014 में हमारी सीटें 2 हो गई और हमारा वोट प्रतिशत 18 पहुंचा। 2019 में हमारी सीटें 18 हुई और हमारा वोट प्रतिशत 40 पहुंचा 2021 के चुनाव में भाजपा 200 सीट से विजयी होगी। बंगाल की जनता भाजपा के साथ है, मोदी जी के साथ है। बंगाल में अब अंतिम छलांग लगानी बाकी है और वो अब हम लोग आपके आशीर्वाद से 2021 में लगाएंगे और यहां ममता जी की सरकार को उखाड़ देंगे और भाजपा सरकार बनाएंगे।

नड्डा ने कहा कि जब मैं पश्चिम बंगाल में आया हूं तो मुझे दुख भी होता है शर्मसार भी होता हूं। जो बंगाल संस्कृति, विराट हृदय, सोनार बंगाल के लिए जाना जाता था, आज वहां हिंसा, भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, अपना-पराया और विकास के विरुद्ध कार्य TMC सरकार कर रही है।
भारतीय जनसंघ का, भाजपा का बंगाल से विशेष संबंध है। जनसंघ को शुरु के दो राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगाल से ही मिले हैं। पश्चिम बंगाल को भारत के साथ अक्षुण्ण रखने का काम श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी ने किया।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen + fourteen =