न्यूज प्रहर

29/09/2020,7:52:39 PM.

-बराकर में टास्क फोर्स के अधिकारी को दुकानदार ने निकाला बाहर

-खाद्य चीजों की कीमतों का निरीक्षण कर रही थी टास्क फोर्स

बंगाल के प्रत्येक जिले में एक ऐसी टास्क फोर्स का गठन किया गया है जो बाजार पर नजर रखती है कि खाने-पीने की चीजों और सब्जियों के दाम नियंत्रण में हैं कि नहीं। यह टास्क फोर्स इस कोरोना काल में काफी सक्रिय है और शिल्पांचल के विभिन्न बाजारों में निरीक्षण का काम करती रही है…जहां जरूरत पड़ती है वहां कार्रवाई भी करती है….लेकिन इस टास्क फोर्स के एक अधिकारी को मंगलवार को उस समय विपरीत परिस्थितयों का सामना करना पड़ा जब एक दुकान में उनसे परिचय पत्र की मांग की गई। लेकिन उसने कोई परिचय पत्र नहीं दिखाया तो दुकानदार ने कुछ भी बताने और कागजात दिखाने से इनकार कर दिया।..इसी दौरान बहस छिड़ गई। श्रीन श्याम भंडार नामक इस दुकान के मालिक ने टास्क फोर्स के इस अधिकारी को दुकान से बाहर चले जाने को कहा…—–लाइव फुटेज—

टास्कफोर्स के अधिकारी और दुकानदार में चल रहे विवाद के बीच तभी एक पुलिसकर्मी वहां पहुंच गया….दुकानदार ने पुलिसकर्नी को मामला समझाने की कोशिश की..लेकिन फिर से दुकानदार और पुलिस में ही बहस छिड़ गई।….काफी देर तक दोनों पक्षों में वाद-विवाद चलता रहा।——-लाइव फुटेज

श्री श्याम भंडार में टास्क फोर्स के अधिकारी और पुलिसकर्मी के बीच बहस को देखते हुए यहां आसपास और लोग भी जुट गए।…दुकान के बाहर मजमा लग गया…हालांकि कुछ ही देर में इस दुकान के आसपास निरीक्षण कर रहे टास्क फोर्स के दूसरे अधिकारी वहां पहुंचे और बातचीत कर मामले को सुलझाया….टास्क फोर्स के एक अधिकारी ने बताया कि कुछ आपसी विवाद हुआ था जो हमने हस्तक्षेप कर सुलझा दिया है……बाइट—–(आखिरी में इस मुद्दे पर बात है)

बहरहाल बराकर के बाजारों में टास्क फोर्स ने काफी सारी दुकानों का निरीक्षण किया। दुकानदारों को खास कर ट्रेड लाइसेंस समेत अन्य कागजात दिखानों को कहा गया। यह भी देखा गया कि तय कीमतों के मुताबिक खाद्य चीजों की बिक्री हो रही है कि नहीं।…खबर है कि टास्क फोर्स ने ट्रेड लाइसेंस नहीं मिलने और अन्य अनियमितता पाने पर कुछ दुकानों को बंद कर दिया है तो कुछ दुकानों पर फाइन भी लगाया है। टास्क फोर्स का निरीक्षण का काम एक मजिस्ट्रेट रैंक के अधिकारी की देखरेख में चला।


दुर्गापूजा से पहले जिले की सड़कों की होगी मरम्मत

जिलाधिकारी ने पीडब्ल्यूडी के साथ की बैठक

आसनसोल समेत पश्चिम बर्दवान जिले के अन्य शहरों और इलाकों में कई सड़कों की हालत खस्ता हो गई है..वे सड़केें इतनी जर्जर हो गई हैं कि उनपर चलना मुश्किल हो रहा है। जून महीने से लगातार हो रही बारिश ने तो सड़कों की हालत और बदतर कर दी है…लेकिन दुर्गापूजा से पहले सड़कों की हालत सुधारने का फैसला हुआ है।..इसलिए मंगलवार को आसनसोल के कन्यापुर स्थित जिलाधिकारी कार्यालय में एक जरूरी बैठक हुई जिसमें पीडब्ल्यूडी समेत अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी पुर्णेंदू कुमार माजी ने पीडब्ल्यूडी अधिकारियों को सड़कों की हालत जल्द सुधारने का आदेश दिया है..—-बाइट–जिला धिकारी


बाराबनीः दो मोटरसाइकिलों की टक्कर में पीडीसीएल कर्मी की मौत

-तेज रफ्तार बाइक ने सीधी मारी थी टक्कर

ये हैं तापस सरकार….उम्र 40 साल। बाराबनी की पीडीसीएल कंपनी में काम करते थे….लेकिन अब यह जीवित नहीं हैं। इनका शव बाराबनी के केलेजोड़ा ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र के स्ट्रैचर पर पड़ा है…एक सड़क दुर्घटना ने इनकी जान ले ली। इनके साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर जा रहे नवीन कुमार भी घायल हुए हैं,….दरअसल मंगलवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे यह अपने ऑफिस जा रहे थे…..लेकिन बाराबनी के चटी रानीगंज के पास तेज रफ्तार से आ रही एक मोटरसाइकिल ने इनकी बाइक को जोरदार टक्कर मार दी…..इससे तापस और नवीन जमीन पर छिटक कर गिर गए…टक्कर मारने वाले बाइक सवार भी वहीं गिर गया…. इस दुर्घटना में तापस को गंभीर चोट आई—उनके मुंह से खून निकलने लगा।

दुर्घटना के बाद तापस , नवीन और टक्कर मारने वाले बाइक सवार को केलेजोड़ा ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया…यहां डॉक्टरों ने तापस को मृत घोषित कर दिया…..तापस की बाइक पर जा रहे उनके सहकर्मी नवीन कुमार ने बताया कि कैसे यह घटना हुई……..बाइट

इधर जब परिवार को दुर्घटना की खबर मिली तो वे दौड़े हुए स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे लेकिन तापस उन्हें स्ट्रैचर पर मृत मिले…उन्हें यह विश्वास नहीं हो रहा था जो अभी कुछ क्षण पहले उनसे बातें कर रहा था, वह अब उनके सामने निर्जीव पड़ा है…बोल नहीं सकता है…..और फिर कभी वापस नहीं आ सकता है….परिजनों को यह सबकुछ देखकर विश्वास नहीं हो रहा था……..

तापस सरकार की मौत की खबर पाकर पीडीसीएल के कर्मचारी स्वास्थ्य केंद्र पहुंच गए और उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने के लिए प्रदर्शन करने लगे।..यह प्रदर्शन काफी देर तक चलता रहा….घटना की खबर सुनकर यूनियन नेता भी जुट गए…..बहरहाल तापस के परिवार को एक अपूर्णीय क्षति पहुंची है जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती है….


आसनसोल के एसबी गोराई रोड में खुली एसबीआई की नई शाखा

-इलाके के लोगों को मिलेंगी सारी बैंकिंग सुविधाएं

आसनसोल के एसबी गोराई रोड में भारतीय स्टेट बैंक की नई शाखा का मंगलवार को उद्घाटन हुआ। एसबीआई रोड इलाके में दिन पर दिन बढ़ते व्यवसाय और लोगी की बैंकिंग जरूरों को पूरा करने के लिए ही एसबीआई ने यहां अपनी शाखा खोली है। बैंक के नए ब्रांच के उद्घाटन के मौके पर आसनसोल-दुर्गापुर पुलिस कमिश्नरेट के सीपी सुकेश कुमार जैन विशेष रूप से उपस्थित थे….एसबीआई के रिजनल मैनेजर अजय कुमार सिन्हा ने कहा कि एसबीआई की नई शाखा खुलने से इलाके लोगों को अब दूर नहीं जाना पड़ेगा, यहां स्टेट बैंक की सारी सुविधाएं मिलेंगीं………बाइट


अभी तक ये पहाड़ की ऊंची चोटियों को फतह कर रहे थे। सबसे कम उम्र में सभी महाद्वीपों की ऊंची चोटियों और ज्वालामुखियों के ऊपर तक पहुंचने के लिए गिनिज बुक ऑफ रिकार्ड्स में इनका नाम दर्ज किया है। ये हैं कोलकाता के सत्यरूप सिद्धांत….लेकिन जब से कोरोना महामारी फैली है तब से इन्होंने पहाड़ की ऊंची चोटियों पर चढ़ने की जगह लोगों को जागरूक करने का इरादा ठान लिया है….और ये महानगर या शहर नहीं, बल्कि पिछड़े इलाकों में कोरोना के प्रति लोग को जागरूक कर रहे हैं….सतरूप ने कोविड केयर नेटवर्क नामक एक संस्था बनाई है और अपने दोस्तों के साथ साइकिल पर निकले हैं।  कोरोना से बचाव को लेकर लोगों में जागरूकता फैला रहा है…ये कोलकाता से निकलने के बाद जंगल महल इलाके यानी झाड़ग्राम, मेदिनीपुर, बांकुड़ा, पुरूलिया होते हुए मंगलवार को रानीगंज पहुंचे…यहां पुलिस द्वारा इनका स्वागत किया गया…सतरूप का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में लोगों में अब भी कोविड को लेकर जागरूकता की कमी है। वे सोचते हैं कि उनके यहां यह बीमारी नहीं आएगी….इसलिए वे लोगों को सही जानकारी दे रहे हैं..,.. —बाइट

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − 9 =