प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज करेंगे नए संसद भवन का शिलान्यास

10/12/2020,12:55:38 PM.

 

नई दिल्ली: प्रधानंत्री नरेन्द्र मोदी आज (गुरुवार) को नये संसद भवन का शिलान्यास और भूमि पूजन करेंगे। नये संसद भवन के निर्माण के लिए शिलान्यास कार्यक्रम दोपहर 12:55 बजे शुरू होगा। पीएम मोदी भूमिपूजन और शिलान्यास दोपहर एक बजे करेंगे। इसके बाद 1:30 बजे सर्वधर्म प्रार्थना होगी। 2:15 बजे पर वह लोगों को संबोधित करेंगे।

चार मंजिला नए संसद भवन का निर्माण 971 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से 64500 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में किए जाने का प्रस्ताव है। इसका निर्माण कार्य भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ तक पूरा कर लिया जाएगा। प्रत्येक संसद सदस्य को पुनःनिर्मित श्रम शक्ति भवन में कार्यालय के लिए 40 वर्ग मीटर स्थान उपलब्ध कराया जाएगा।

हालांकि शिलान्यास के बाद इस योजना पर काम शुरू नहीं हो पाएगा। क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने इस योजना पर रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने नई संसद समेत कई अहम सरकारी इमारतों वाले सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में किसी भी निर्माण पर फिलहाल रोक लगा दी है। बता दें कि इस परियोजना पर रोक लगाने की मांग से संबंधित याचिका को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है।

इन याचिकाओं पर कोर्ट ने 5 नवंबर को फैसला सुरक्षित रखा था। तब कोर्ट ने कहा था कि वह इस पहलू पर पहले विचार करेगा कि क्या प्रोजेक्ट के लिए सभी कानूनी नियमों का पालन किया गया है। फैसला आने से पहले ही संसद के शिलान्यास पर कोर्ट ने केंद्र से सफाई मांगी थी। जवाब में केंद्र ने कहा था कि फैसला आने से पहले न तो सेंट्रल विस्टा में कोई निर्माण होगा, न ही किसी पुरानी इमारत को गिराया जाएगा।

पेड़ों को दूसरी जगह लगाने का काम भी रुका रहेगा। ऐसे में यह साफ है कि नई संसद और दूसरी इमारतों का निर्माण तभी शुरू हो सकेगा, जब कोर्ट उसे मंजूरी देगा। नये संसद भवन के निर्माण का प्रस्ताव उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू एवं लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने क्रमशः राज्यसभा और लोक सभा में 5 अगस्त 2019 को किया था।

लोकसभा सचिवालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि नए संसद भवन का डिजाइन अहमदाबाद के मैसर्स एचसीपी डिजाइन और मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड द्वारा तैयार किया गया है और इसका निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड द्वारा किया जायेगा।

इसमें 876 सीट वाली लोकसभा, 400 सीट वाली राज्य सभा और 1224 सीट वाले सेंट्रल हॉल का निर्माण होगा। इससे संसद की संयुक्त बैठक के दौरान सदस्यों को अलग से कुर्सी लगा कर बैठाने की ज़रूरत खत्म हो जायेगी। सेंट्रल विस्टा में एक दूसरे से जुड़ी 10 इमारतों में 51 मंत्रालय बनाए जायेंगे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 + 4 =