बंगाल की सत्ता पर पैनी नजर, शाह करेंगे दिलीप व मुकुल के साथ बैठक

29/09/2020,1:33:34 PM.

कोलकाताहिंदी.कॉम

कोलकाताः बिहार में विधानसभा चुनाव की डुगडुगी बज चुकी हैं। राजनीतिक पार्टियां अपनी-अपनी बिसात बिठाने में लग गई हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी बिहार के साथ ही बंगाल पर भी पैनी नजर रख रही है। हालांकि बंगाल में चुनाव होने में अभी कम से कम छह माह का समय है।

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की रणनीति बनाने के लिए भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह इस बृहस्पतिवार को बंगाल के नेताओं की एक महत्वपूर्ण बैठक करने जा रहे हैं। यह बैठक दिल्ली में ही होगी। इसलिए बंगाल के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और अभी-अभी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाए गए मुकुल राय को इस बैठक में हाजिर होने को कहा गया है। बैठक में बंगाल से और भी महत्वपूर्ण नेता मौजूद रहेंगे।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय नेतृत्व के सभी बड़े नेता बिहार चुनाव को लेकर व्यस्त हो जाएंगे। लेकिन इस लिए पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व यह तय कर देना चाहता है कि बंगाल में अपनी स्थिति मजबूत बनाने के लिए क्या रणनीति होगी। बृहस्पतिवार को जो रणनीति तय होगी, उसके तहत बंगाल के नेता कम से कम बिहार चुनाव समाप्त होने तक आगे बढ़ेंगे।

इस बैठक का एक और बड़ा मकसद जो समझ में आ रहा है, वह यह कि बंगाल प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और पार्टी में कद बढ़ाए गए मुकुल राय के बीच दूरियों का पाटना है। दोनों वरिष्ठ नेताओं को अपने आपसी मतभेद भूलाकर बंगाल में पार्टी को कैसे मजबूती देना है, यह इस बैठक में कोशिश होगी। साथ और अन्य नेताओं के साथ आपसी साझेदारी को बढ़ाने पर भी जोर रहेगा।

लेकिन इस बैठक को लेकर सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा को बैठक में बुलाया जायेगा। यह बंगाल के भाजपा कार्यकर्ता और समर्थक बेसब्री से जानना चाहते हैं। दरअसल शनिवार को भाजपा ने जो राष्ट्रीय संगठन में फेरबदल किया है, उसमें राहुल सिन्हा का पत्ता साफ कर दिया गया। उन्हें राष्ट्रीय सचिव के पद सेे हटा दिया गया है। उनकी जगह अनजान से अनुपम हाजरा को सचिव बनाया गया है।

सचिव पद से हटाने के बाद राहुल सिन्हा ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने यह कहा था 40 साल तक पार्टी की सेवा करने के  बाद उन्हें यह सब देखना पड़ेगा, कभी यह नहीं सोचा था। हालांकि पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और सह प्रभारी अरविंद मेनन ने राहुल से बात की है। लेकिन सूत्रों का कहना है कि राहुल सिन्हा ने मेनन से तो बात की है लेकिन कैलाश विजयवर्गीय से बात नहीं की है। मेनन ने कहा है कि राहुल जी हमारे पुराने नेता और हम उन्हें मना लेंगे। मुकुल राय ने उनके बारे में कहा है कि वे भाजपा के चेहरा हैं।

बहरहाल भाजपा बंगाल में अगले साल होने वाले चुनाव में जीत का सपना देख रही है। पिछले लोकसभा चुनाव में मिले उसे 18 सीटों ने यह सपना देखने का हिम्मत दिया है। इसलिए भाजपा अभी से बंगाल चुनाव की तैयारियों में लग जाना चाहती है। हालांकि तृणमूल प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तो बहुत पहले ही दोबारा सत्ता में आने के लिए तैयारी शुरू कर दी है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 − five =