बंगाल में तृणमूल के निशाने पर शुभेंदु, पूछा – नंदीग्राम क्यों नहीं जा रहे हैं

22/12/2020,4:48:16 PM.

 

कोलकाताः पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस के निशाने पर अब मुख्य रूप से भाजपा में शामिल होने वाले कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी आ गए हैं। मंगलवार को तृणमूल भवन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए दमदम से तृणमूल सांसद और वरिष्ठ नेता सौगत राय ने पूछा कि आखिर शुभेंदु अधिकारी अब नंदीग्राम क्यों नहीं जा रहे हैं।

दरअसल, वर्दवान के केतुग्राम में भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के साथ शुभेंदु अधिकारी की जनसभा होनी है। शुभेंदु नंदीग्राम आंदोलन का मुख्य चेहरा रहे थे। जब 2007 में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने यहां आंदोलन किया था, तब सारी व्यवस्थाएं करने और लोगों को सीएम के पक्ष में करने में अधिकारी परिवार की बड़ी भूमिका थी। अब जबकि शुभेंदु अधिकारी तृणमूल से बगावत करके भाजपा में शामिल हो गए तब वे इस आंदोलन में किसी नेता की भूमिका नहीं होने और आंदोलन का राजनीतिक लाभ उठाने की बात कर रहे हैं। सच यह है कि यहां के लोगों ने आंदोलन किया था। अधिकारी ने कहा था कि मैं किसी भी पार्टी में रहूं नंदीग्राम के लोगों का साथ कभी नहीं छोडूंगा।

अब अधिकारी के‌ इसी बयान को मुद्दा बनाकर सौगत रॉय ने पूछा कि आखिर शुभेंदु अधिकारी अब नंदीग्राम क्यों नहीं जा रहे हैं? उन्होंने कहा कि नंदीग्राम के शहीद की मां फिरोजा बीवी ने शुभेंदु अधिकारी की निंदा की है, क्योंकि उन्होंने सांप्रदायिक शक्तियों का हाथ थाम लिया है।

सौगत राय ने कहा कि कल यानि बुधवार को तृणमूल कांग्रेस शुभेंदु अधिकारी के गढ़ कांथी में सभा करेगी। वहां सौगत रॉय और फिरहाद हकीम मौजूद रहेंगे। हालांकि जब पूछा गया कि शुभेंदु अधिकारी के गढ़ में यह सभा होने जा रही है, इसका क्या मतलब निकाला जाए? तब सौगत ने कहा कि शुभेंदु का कोई गढ़ है, ऐसा हम लोग नहीं मानते हैं।

उल्लेखनीय है कि 24 दिसम्बर को कांथी में शुभेंदु अधिकारी की जनसभा होना है। उसके पहले ही यहां तृणमूल कांग्रेस अपना शक्ति प्रदर्शन करना चाहती है।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 8 =