भाजपा के युवा मोर्चा के नवान्न अभियान शुरू, कोलकाता में भारी तनाव, जगह-जगह पुलिस बल तैनात, रास्तों पर बैरिकेटिंग

08/10/2020,11:56:15 AM.

कोलकाताहिंदी.कॉम

कोलकाताः रोजगार और  लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था और भ्रष्टाचार को लेकर भाजपा के सचिवालय घेराव को लेकर गुरुवार को सुबह से तनाव दिख रहा है। पुलिस ने बुधवार की रात से ही कोलकाता में बल तैनात कर रखा है। यहां तक चितरंजन एवेन्यू में भाजपा के राज्य मुख्यालय के बाहर भी भारी संख्या में पुलिस बल गुरुवार सुबह से देखा जा रहा है। पुलिस ने सड़क पर अवरोधक लगा रखे हैं। इससे यह साफ दिख रहा है कि नवान्न अभियान दौरान भाजपा और पुलिस के बीच हिंसक टकराव की आशंका है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने दो दिन के लिए नवान्न को बंद कर दिया है। हालांकि राज्य सरकार ने कहा कि कोरोना से बचान के लिए सचिवालय को सैनिटाइज किया जाएगा।

वहीं इधर युवा मोर्चा  राज्य सचिवालय घेराव करने के लिए निकले भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ़ पुलिस पर बल प्रयोग करने और जगह-जगह सड़क अवरोध के बावजूद हावड़ा के सांतरागाछी से एक जुलूस निकल चुका है। इस जुलूस का नेतृत्व भाजपा भाजपा के उपाध्यक्ष सांयतन बुस और राजू बनर्जी कर रहे हैं।

भाजपा की युवा इकाई भारतीय जनता युवा मोर्चा गुरुवार को बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विरोध में राज्य सचिवालय ‘नवान्न चलो’ अभियान करने जा रही है। भारतीय जनता युवा मोर्चा के नवनियुक्त अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या इस हावड़ा से विरोध रैली की अगुवाई कर रहे हैं। उनके साथ  बंगाल युवा मोर्चा के प्रमुख सौमित्र खान भी शामिल हैं। युवा मोर्चा के अध्यक्ष के रूप में तेजस्वी की यह पहली विरोध रैली है। वह 15 दिन पहले ही पद पर नियुक्त किए गए हैं। इन नेताओं के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेता जिसमें अरविंद मेनन, मुकुल रॉय दिलीप घोष शामिल हैं, वे भी सचिवालय घेराव का नेतृत्व करेंगे।

हावड़ा के शिवपुर में मौजूद सचिवालय बिल्डिंग का घेराव करने के लिए भाजपा के कार्यकर्ता कोलकाता और हावड़ा के अलावा उत्तर और दक्षिण 24 परगना तथा हुगली से हजारों की संख्या में एकत्रित होंगे। इन्हें मुख्यमंत्री दफ्तर तक पहुंचने से रोकने के लिए पुलिस ने मंगलवार रात से ही तैयारियां शुरू कर दी हैं।

बताया गया है कि कोलकाता, हावड़ा और अन्य क्षेत्रों में कुल मिलाकर 10,000 से अधिक पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है ताकि भाजपा कार्यकर्ताओं को बीच रास्ते में ही रोका जा सके। इधर भाजपा भी हर हाल में राज्य सचिवालय तक पहुंचने की चेतावनी दी है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष पहले ही चेतावनी दे चुके हैं कि अगर भाजपा कार्यकर्ताओं को जबरदस्ती गिरफ्तार किया गया तो पुलिस को इसके परिणाम भुगतने होंगे। उधर किसी भी सूरत में सचिवालय तक भाजपा कर्मियों का पहुंचना रोकने के लिए पुलिस ने जगह-जगह बैरिकेडिंग शुरू कर दी है। इसलिए अंदाजा लगाया जा रहा है कि गुरुवार को भाजपा कार्यकर्ताओं व पुलिस के बीच हिंसक टकराव हो सकता है। कोरोना संकट की वजह से वैसे भी भीड़ एकत्रित करने पर पाबंदी है। इसके अलावा राज्य सचिवालय के पास हमेशा ही धारा 144 लगी रहती है। इसलिए बड़ी संख्या में भाजपा नेता और कार्यकर्ताओं की सांकेतिक गिरफ्तारी की भी संभावना है।

तेजस्वी सूर्या ने बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महिलाओं के खिलाफ अपराध, कानून व्यवस्था समेत अन्य सात सूत्री मांगों को लेकर सचिवालय घेराव करने की घोषणा की है। बुधवार को उन्होंने एक वीडियो संदेश जारी किया जिसमें कहा है कि ममता बनर्जी का शासन लोकतंत्र की हत्या का पर्याय बन चुका है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + five =