भारतीय शास्त्रीय गायन के महान पुरोधा पंडित जसराज अब नहीं रहें

17/08/2020,7:25:56 PM.

कोलकाताहिंदी.कॉम

कोलकाताः दुनिया के इकलौते शास्त्रीय गायक, जिनके नाम पर एक ग्रह का नाम है, पंडित जसराज का निधन हो गया है। भारतीय शास्त्रीय संगीत के महान पुरोधा 90 वर्षीय पंडित जसराज की सोमवार सुबह अमेरिका के न्यू जर्सी स्थित अपने घर में कॉर्डियक अरेस्ट की वजह से मौत हुई। वे अपने पीछे पत्नी, पुत्र और पुत्री छोड़ गए हैं।

शास्त्रीय गायक पंडित जसराज हरियाण से थे और वह मेवाती घराना से संबंध रखते थे। शास्त्रीय संगीत में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें तीन पद्म सम्मानों-पद्मश्री, पद्म भूषण व पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। वे शास्त्रीय गायन और ठुमरी के लिए जाने जाते थे। भक्ति संगीत में उन्हें महारत हासिल थी। वह देश-विदेश में शास्त्रीय गायन की शिक्षा भी देते थे।

पंडित जसराज पहले भारतीय संगीतकार थे जिन्होंने विश्व के सबसे ज्यादा सम्मानित संगीतकारों मोजार्ट, वीथोवन और टेनर लुसानों पेवार के साथ जुगलबंदी की थी। शास्त्रीय संगीत में उनके योगदान को देखते हुए इंटरनेशनल एस्ट्रोनोमिकल यूनियन(आईएयू) ने उनके नाम पर छोटे ग्रह का नाम रखा था। इस ग्रह को 2006वपी32 के रूप में 11 नवंबर 2006 को खोजा गया था।

पंडित जसराज के निधन पर राजनेताओं से लेकर संगीत जगत की हस्तियों और संगीत प्रेमियाें ने शोक प्रकट किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में कहा है कि पंडित जसराज के निधन से भारतीय संगीत जगत में एक खालीपन आ गया है। उन्होंने ना सिर्फ अपने गायन से बड़ी छाप छोड़ी बल्कि दूसरे गायकों के लिए उनके मेंटर के रूप में भी भूमिका निभाई।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − 3 =