मिशन 2021 : रणनीति के कारगर प्रभाव के लिए भाजपा ने बंगाल को 5 जोन में बांटा

17/11/2020,5:37:39 PM.

कोलकाताः 2021 का विधानसभा चुनाव भाजपा के लिए मछली की आंख की तरह महत्वपूर्ण हो चुका है। हर हाल में पार्टी राज्य की सत्ता पर काबिज होने का लक्ष्य लेकर चल रही है। पिछले दिनों ही केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह ने आसनसोल-दुर्गापुर अंचल के साथ ही कई जिलों के पार्टी नेताओं के साथ ही सांगठनिक बैठक की थी। उस दौरान अमित शाह ने बंगाल में पार्टी नेताओं को  200 प्लस सीटें जीतने का टारगेट दिया था। इस टारगेट को प्राप्त करने के मद्देनजर मंगलवार को कोलकाता में पार्टी की केंद्रीय कमेटी की बैठक हुई। इसमें जीत की रणनीति के कारगर प्रभाव के लिए पूरे बंगाल को पांच जोन में बांटा गया है। प्रत्येक जोन में समन्वय और बेहतर तालमेल की जिम्मेवारी एक-एक केंद्रीय नेतृत्व को सौंपी गई है। जिन केंद्रीय नेताओं को जिम्मेवारी सौंपी गयी है वे हैं सुनील देवधर, बिनोद सोनकर, दुशमंत गौतम, बिनोद तावड़े और हरीश द्विवेदी। विनोद सोनकर राढ़बंग जोन यानी आसनसोल-दुर्गापुर समेत बांकुड़ा, पुरूलिया, मेदिनीपुर आदि जिलों के प्रभारी बनाए गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक सुनील देवधर मेदिनीपुर जोन के प्रभारी हैं। त्रिपुरा में भाजपा की जीत का सेहरा इन्हीं के सिर सजा था।  हरीश द्विवेदी उत्तर बंगाल के प्रभारी होंगे जबकि कोलकाता जोन के प्रभारी दुष्यंत गौतम को बनाया गया है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक विस्तारक जिलों में बूथ स्तर तक पहुंचेंगे। अमित मालवीय राज्य में आईटी सेल की गतिविधियों की देखभाल करेंगे। 2021 विधानसभा को ध्यान में रखते हुए, उन्हें राज्य के सहायक पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है। भाजपा के केंद्रीय नेता सुनील देवधर भी सोमवार की रात शहर पहुंचे। त्रिपुरा में भाजपा सरकार के गठन के पीछे के मास्टरमाइंड सुनील देवधर को हावड़ा, हुगली और मेदिनीपुर का प्रभार मिला है। वह इन तीन जिलों में संगठनात्मक स्थिति की समीक्षा करेंगे और दिल्ली को एक विस्तृत रिपोर्ट भेजेंगे। बाकी प्रभारियों की भी यही जिम्मेवारी होगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 + 2 =