मुख्यंत्री ममता का दावा : विश्वभारती के कार्यक्रम में नहीं किया आमंत्रित, राज्यपाल ने कहा, झूठ बोल रही हैं सीएम

24/12/2020,7:46:21 PM.

 

 

कोलकाताः मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को दावा किया है कि विश्व भारती के शताब्दी वर्ष कार्यक्रम में उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया था। हालांकि राज्यपाल ने इस पर तुरंत पलटवार किया है और विश्वविद्यालय की ओर से भेजे गए आमंत्रण पत्र की प्रति ट्विटर पर अपलोड करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री झूठ बोल रही हैं।

विश्व भारती विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में पीएम नरेंद्र मोदी के संबोधन को लेकर सचिवालय में मुख्यमंत्री बनर्जी ने कहा कि विश्व भारती विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में शामिल होने के लिए उन्हें कोई आमंत्रण नहीं दिया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें न तो फोन किया गया था और न ही कोई संपर्क किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं 26 तारीख को बोलपुर जाऊंगीं तब कुलपति ने मिलने और समय देने के लिए बात हुई थी। मुझे आज के कार्यक्रम के लिए कोई आमंत्रण नहीं दिया गया था और न ही फोन किया गया था।

इधर, राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद उनको भेजे गए आमंत्रण की प्रति ट्विटर पर अपलोड की है और कहा है कि उन्हें संस्थान की ओर से आमंत्रित किया गया था लेकिन उन्हें केवल राजनीति करना है। वह खुलेआम झूठ बोल रही हैं। विश्वभारती के शताब्दी समारोह में मुख्यमंत्री को आमंत्रित किए जाने को लेकर गुरुवार सुबह से ही तृणमूल और विश्व भारती विश्वविद्यालय के बीच विवाद शुरू हो गया था। विश्वभारती की ओर से निमंत्रण जारी कर कहा गया था कि ममता बनर्जी को आमंत्रित किया गया था। सुबह में ही राज्य मंत्री के ब्रात्य बसु ने कहा था कि ममता बनर्जी को कोई निमंत्रण नहीं दिया गया है।

ममता ने पूछा-कब किया गया था फोन
ममता ने पूछा, “आपने कब फोन किया था ? मुझे भाजपा की हर बात सुननी होगी। मेरा भी एक कार्यालय है। मुझे कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने (विश्वभारती के उपकुलपति) ने मुझे एक संदेश भेजा था कि जब मैं 26 दिसम्बर बोलपुर जाऊं तो अगर मैं उन्हें कुछ समय दे सकूं, वह उनसे मिलना चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया, “आज स्थापना दिवस है। उन्होंने मुझे आमंत्रित नहीं किया है और न ही फोन किया गया। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से ममता बनर्जी ने विश्वभारती के पूर्व छात्रों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि अचानक आज वे (मोदी) आ गए हैं, लेकिन विश्व भारती का इतिहास सौ वर्षों का है। वे कुछ समय के लिए हैं, लेकिन अंततः जीत हमारी ही होगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + 17 =