सर्वे से चार गुणा अधिक सीटें जीतेगी तृणमूल कांग्रेसः ममता

19/01/2021,8:05:15 PM.

ममता ने खेला आदिवासी कार्ड, रघुनाथ मुर्मू की जयंती पर रहेगी छुट्टी

कोलकाताः मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बंगाल में चुनावी सर्वे को पूरी तरह से खारिज करते कहा कि सर्वे पूरी तरह से गलत है। सर्वे में जितनी भी सीटें दिखाई गयी हैं, तृणमूल उससे चार गुणा अधिक सीट जीतेगी। मंगलवार को पुरुलिया की सभा में ममता ने कहा भाजपा मीडिया का इस्तेमाल कर रही है। गलत सर्वे जारी करने के लिए अमित शाह मीडिया हाउस को भय दिखा रहे हैं। भाजपा पूरी तरह से झूठी है। गलत प्रचार करती है। फेक वीडियो जारी करती है। फेक वाट्सऐप ग्रुप बनाती है। गलत सूचना देती है।

ममता ने पुरुलिया की जनसभा में भाजपा और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि अगले विधानसभा चुनाव के बाद फिर से तृणमूल की ही सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय भाजपा ने वादा किया था, लेकिन चुनाव के बाद भाग गयी थी। कोई विकास नहीं हुआ। चुनाव के पहले मिठाई खिलाने की बात कहती है, लेकिन चुनाव के बाद कच्चा केला खिलाएगी। भाजपा केवल झूठ बातें बोलती हैं। भाजपा झारखंड में नहीं है, ओडिशा नहीं है, तरह-तरह से सर्वे दिखाए जा रहे हैं। भाजपा मीडिया हाउस को भय दिखा रही है। सर्वे में जितना बोला गया है, तृणमूल उससे चार गुणा अधिक सीट जीतेगी। मीडिया हाउस को इनकम टैक्स का भय दिखाया जाता है। सही को गलत और गलत को सही कर दिखाने के लिए कहा जाता है। मीडिया पर विश्वास नहीं करें।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले पुरुलिया, बांकुड़ा, झाड़ग्राम और जंगलमहल क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी समुदाय को लुभाने के लिए ममता ने आदिवासी कार्ड खेला है। आदिवासी नेता पंडित रघुनाथ मुर्मू की जयंती पर छुट्टी की घोषणा मुख्यमंत्री ने की है। मंगलवार को पुरुलिया में संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच मई को पंडित रघुनाथ मुर्मू की जयंती पर सरकारी तौर पर छुट्टी रहेगी। दरअसल पांच मई 1905 को पंडित रघुनाथ मुर्मू का जन्म हुआ था। वह संथाली भाषा को लिपिबद्थ करने वाले विद्वान के तौर पर जाने जाते हैं। संथाली भाषा को लिपिबद्ध करने के लिए उन्होंने अल्चिकी लिपि की रचना की थी। आदिवासी समाज में उनकी लोकप्रियता अविवादित है। उनके रचे हुए साहित्य आदिवासियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

ममता ने कहा कि ऐसे सम्मानित व्यक्ति को सम्मान जताने के लिए सरकार ने उनकी जयंती पर छुट्टी की घोषणा करने का निर्णय लिया है। इसके पहले मुख्यमंत्री ने आदिवासियों के बीच भगवान की तरह पूजे जाने वाले स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा जयंती पर छुट्टी की घोषणा की थी। इसके अलावा बांग्लादेश से भारत आकर बसे शरणार्थी समुदाय मतुआ लोगों के संस्थापक पिता गुरुचंद व हरिचंद ठाकुर की जयंती पर छुट्टी की घोषणा की है। इसके पहले बर्मा की जयंती पर छुट्टी की घोषणा भी कर चुकी हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 + seven =