प्रधानमंत्री का 10 राज्यों को संदेशः दिल्ली के रास्ते पर चलकर मिलेगी कोरोना से जंग

11/08/2020,4:47:18 PM.

कोलकाताहिंदी.कॉम

कोलकाताः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 राज्यों से कहा है कि वे दिल्ली में अपनाए गए तरीके का आजमाए जिससे तेजी से कोरोना संक्रमण पर रोकथाम की जा सके। प्रधानमंत्री ने आज इन 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैठक की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिन 10 प्रमुख कोरोना प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की, उनमें शामिल रहे- पश्चिम बंगाल, पंजाब, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, बिहार, गुजरात वे तेलंगाना। देश में महाराष्ट्र में सबसे अधिक कोरोना मामले हैं और उसके बाद तमिलनाडु है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह जी के नेतृत्व में दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में जो अप्रोच लिया गया और जो परिणाम आए, वो सबके सामने हैं। इस रणनीति के मुख्य बिंदु थे – कंटेनमेंट जोन को अलग करना और 100% स्क्रीनिंग पर ध्यान केंद्रित करना, विशेषकर अधिक जोखिम वाले वर्ग की स्क्रीनिंग पर। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ कंटेमेमंट, कॉन्टेस्ट ट्रेसिंग और सर्विलांस सबसे प्रभावी हथियार हैं। अब जनता भी इस बात को समझ रही है, लोग पूरी तरह सहयोग कर रहे हैं। जागरुकता की हमारी कोशिशों से एक अच्छे परिणाम की तरफ हम आगे बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आज देश में एक्टिव केस 6 लाख से ज्यादा हो चुके हैं, जिनमें से ज़्यादातर मामले दस राज्यों में ही हैं।आज की इस चर्चा से हमें एक दूसरे के अनुभवों से काफी कुछ सीखने समझने को मिला है। अगर हम मिलकर अपने इन दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगा

पीएम ने कहा कि देश में टेस्टिंग की संख्या बढ़कर हर दिन 7 लाख तक पहुंच चुकी है और लगातार बढ़ भी रही है। इससे संक्रमण को पहचानने और रोकने में मदद मिल रही है। सक्रिय मामलों का प्रतिशत कम हुआ है, वहीं रिकवरी दर बढ़ी है। इसका अर्थ है कि हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं।

उन्होंने मुख्यमंत्रियों से कहा कि आपके राज्यों में जमीनी हकीकत की निरंतर निगरानी करके जो नतीजे पाए गए, सफलता का रास्ता उसी से बन रहा है। मुझे विश्वास है कि आपके इस अनुभव की ताकत से देश ये लड़ाई पूरी तरह से जीतेगा, और एक नई शुरुआत होगी। सबसे अहम बात है कि इससे लोगों के बीच भी एक भरोसा बढ़ा है, आत्मविश्वास बढ़ा है और डर भी कुछ कम हुआ है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =