इंडोनेशिया को चीन से कोरोना वैक्सीन के एक मिलियन से अधिक डोज हुए प्राप्त

07/12/2020,9:25:49 PM.

जकार्ता (हि.स.)। इंडोनेशिया को चीनी कंपनी सिनोवैक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के एक मिलियन से अधिक डोज हुए प्राप्त हुए हैं।

यह वैक्सीन डोज रविवार देर रात को बीजिंग से चली फ्लाइट के जरिए जकार्ता पहुंचे हैं। इसके साथ ही अगले महीने फिर से 1.8 मिलियन डोज आने की संभावना है। हालांकि चीनी रेग्यूलेटर्स ने वैक्सीन की मास डिस्ट्रीब्यूशन की बात की पुष्टि नहीं की है। उन्होंने कुछ एडवांस्ड कैंडीडेट्स को इमरजेंसी यूज करने की मंजूरी दी है।

इंडोनेशिया के कोराेना रिस्पांस टीम के चीफ एयरलंगा हरटार्टो ने सोमवार को कहा है कि वैक्सीन की पहले बैच के डोज की जांच फूड एंड ड्रग कंपनी द्वारा की जाएगी। इन्हें मेडिकल वर्कर्स और अन्य ज्यादा खतरे वाले समूहों में बांट दिया जाएगा। इसके अलावा इंडोनेशिया उलेमा काउंसिल भी पहले कंसाइंसमेंट को चेक करेंगे। वे यह सुनिश्चित करेंगे कि यह वैक्सीन विश्व के ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश की जरूरतों से मेल खाता है या नहीं।

रविवार देर रात को राष्ट्रपति जोकोको विडोडो ने इस डिलिवरी का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है कि वह इस बात के आभारी हैं कि वैक्सीन अब उपलब्ध है। साथ ही हम तत्काल रूप से कोरोना महामारी को फैलने से रोक सकते हैं। इसके साथ-साथ उन्होंने इस बात को भी दोहराया कि सबसे पहले सभी प्रक्रियाओं का पालन होना चाहिए जिससे लोगों के स्वास्थ्य-सुरक्षा और वैक्सीन की प्रभाविकता सुनिश्चित की जा सके।

दरअसल अगस्त में इंडोनेशिया ने सिनोवैक द्वारा विकसित वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल की शुरुआत की थी। इसमें 1,600 वॉलंटियर्स ने भाग लिया था।

इंडोनेशिया की सरकार ने सिनोवैक वैक्सीन की 3 मिलियन डोजेज के लिए 637 बिलियन रुपियाह का भुगतान किया है। इसके अलावा एक अन्य चीनी फर्म कैनसीनो की ओर से अन्य 100,000 डोज डिलीवर होने की तैयारी कर ली है।

इंडोनेशिया की विदेश मंत्री रेटनो मारसूदी ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि अन्य देशों से भी मल्टीलेटरल वैक्सीन वर्ष 2021 में धीरे-धीरे आना शुरू हो जाएंगी।

उल्लेखनीय है कि इंडोनेशिया यूके की एस्ट्राजेनेका सहित अन्य फार्मा कंपनियों के साथ वैक्सीन को लेकर बात कर रहा है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − eight =