news prahar 28 09 2020

28/09/2020,4:10:16 PM.

लीड खबर

—————

-काजी नजरूल विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन

-तृणमूल छात्र परिषद ने फीस वृद्धि वापस लेने की मांग की

आसनसोल स्थित काजी नजरूल विश्वविद्यालय के छात्र संगठन तृणमूल छात्र परिषद ने सोमवार को प्रदर्शन किया और उपकुलपति को ज्ञापन सौंपा। यह प्रदर्शन मुख्य रूप से फीस वृद्धि के विरोध में किया गया। ज्ञापन में राज्य सरकार के फैसले के मुताबिक फीस वृद्धि के फैसले को वापस लेने की मांग की गई। प्रदर्शन का नेतृत्व करने वाले पश्चिम बर्दवान जिला तृणमूल छात्र परिषद के अध्यक्ष कौशिक मंडल का कहना था कि एक तरफ जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्कूल-कालेजों में फीस वृद्धि नहीं करने को कहा है, वहीं केएनयू छात्रों से बढ़ी हुई फीस लेने पर तुला हुआ है। हालांकि कौशिक ने यह भी कहा कि लॉकडाउन के पहले ये फीस बढ़ाई कई थी…….बाइट कौशिक मंडल


1 अक्टूबर से मल्टी प्लेक्स व सिनेमा हॉल खुलने में क्या है पेच

मुख्यमंत्री ने की है सिनेमा हॉल खोलने की घोषणा

 

पिछले मार्च महीने के अंतिम सप्ताह से पूरे देश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने लॉकडाउन लगाया था। पश्चिम बंगाल में भी इस लॉकडाउन से सबकुछ ठप हो गया था। इसमें मॉल भी शामिल  थे…आसनसोल में दो बड़े मॉल हैं। पहला बर्नपुर रोड में चित्रा सिनेमा हॉल के पास ग्लैक्सी मॉल और दूसरा कन्यापुर के सृष्टि नगर में आसनसोल स्पैक्ट्रम। इन दोनों मॉल में मल्टीप्लैक्स यानी कई स्क्रीन वाले सिनेमा थियेटर हैं।..25 मार्च को लॉकडाउन होने के बाद से इन मॉल के स्क्रीन में कोई फिल्म नहीं दिखाई गई है…लेकिन अब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दो दिन पहले कहा कि 1 अक्टूबर से सिनेमा हॉल खुल सकेंगे। यानी अक्टूबर की पहली तारीख से सिंगल थियेटर के साथ ही मॉल के मल्टी प्लैक्स में फिल्मी दिखाई जा सकेंगी…..इससे सिनेमा प्रेमियों में उम्मीद की एक किरण जगी है…मार्च के आखिरी सप्ताह से उन्होंने थियेटर या मल्टी प्लैक्स में फिल्में नहीं देखी हैं…अब उन्हें लगता है कि घर में बैठ-बैठे बोर होने के बाद मनोरंजन के लिए वे सिनेमा हॉल या मल्टी प्लैक्स जा सकेंगे। यहां फिल्में देख सकेंगे———–बाइट ( दो बाइट सिनेमा को लेकर है)

यहां आपके लिए जानना जरूरी है कि बड़े-बड़े मॉल में लोगों की भीड़ खींचने में कई स्क्रीनों वाले मल्टी प्लैक्स की बड़ी भूमिका होती है…लोग सिनेमा देखने आते हैं और उसके बहाने खरीदारी भी करते हैं…हर बड़े मॉल में मल्टी प्लैक्स होते हैं..लेकिन जहां मल्टी प्लैक्स नहीं होते हैं वहां लोग कम ही जाते हैं….

बहरहाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 1 अक्टूबर से सिनेमा हॉल खोलने की घोषणा तो कर दी है लेकिन अब बड़ा सवाल यह है कि क्या मल्टी प्लैक्स खुलेंगे…..दरअसल सरकार ने यह कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए 50 लोगों को ज्यादा भीड़ नहीं जुटाई जा सकती है…यानी सिनेमा हॉल के एक शो में मात्र 50 लोग ही जा पाएंगे…जबकि मल्टी प्लैक्स के एक थियेटर में सीटों की संख्या 100 से लेकर 200 तक होती है। कहीं-कहीं 300 या उससे ज्यादा होती है..जबकि सिंगल थियेटर वाले सिनेमा हॉल में यह संख्या 500 से लेकर 1000 तक होती है….किसी-किसी हॉल में तो 2000 तक सीटों की संख्या होती है…

राज्य सरकार के फैसले पर एक मॉल के अधिकारी ने कहा कि सरकार ने फिल्म देखने के लिए दर्शकों की संख्या को सीमित कर दिया है…इससे मल्टी प्लैक्स मालिकों के लिए फिल्में दिखाना मुश्किल होगा…अब देखना है कि मल्टी प्लैक्स के मालिक क्या फैसला करते हैं…

-नोट– जहां-लॉकडाउन, कोरोना, मुख्यमंत्री की बात है, वहां उसका फुटेज या फोटो दिखाइये….


-रानीगंज के पंजाबी मोड़ में शहीद भगत सिंह की मूर्ति का अनावरण

-मेयर जितेंद्र तिवारी ने भगत सिंह को किया याद

आसनसोल में जीटी रोड पर शहीद भगत सिंह की मूर्ति है। यह मूर्ति जहां है, उसे भगत सिंह मोड़ कहा जाता है। यह मोड़ आसनसोल से बराकर और बर्नपुर से आसनसोल बाइपास को कनेक्ट करता है। अब जीटी रोड पर भगत सिंह की एक और मूर्ति स्थापित की गई है। यह रानीगंज के पंजाबी मोड़ में आसनसोल नगर निगम द्वारा स्थापित की गई है। इसमें श्री संगत गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने भी सहयोग किया है। सोमवार को शहीद भगत सिंह की जयंती पर उकी मूर्ति का अनावरण किया गया। मेयर जितेंद्र तिवारी ने शहीद भगत सिंह की मूर्ति का अनावरण किया। उन्होंने देश की आजादी में उनके योगदान को याद किया।

मूर्ति अनावरण के मौके पर रानीगंज के पार्षद, रानीगंज चेंबर ऑफ कॉमर्स और श्री संगत गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पदाधिकारियों के साथ बड़ी संख्या में आम लोग मौजूद थे। पंजाबी मोड़ इलाके में बड़ी संख्या में सिख समुदाय के लोग रहते हैं। शहीद भगत सिंह की मूर्ति स्थापित होने से उनमें काफी हर्ष है। मेयर जितेंद्र तिवारी ने मीडिया से बात करते हुए श्री संगत गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के योगदान की प्रशंसा की…..–बाइट

———यहां से जोड़ना है———-

रानीगंज में शहीद भगत सिंह की मूर्ति स्थापित होने पर जहां वहां के सिख समुदाय और दूसरे लोगों को खुशी हुई, वहीं आसनसोल में भी सिख समुदाय के लोगों में हर्ष देखा गया। शहीद भगत सिंह की जयंती मनाने के लिए लोग उनकी मूर्ति के समक्ष उपस्थित हुए थे। यहां बर्नपुर और निरसा से भी लोग आए थे……बाइट

—नोट- उपर का बोल्ड लाइन फिर से बोल दीजिये, उनकी जयंती बात पहले नहीं थी।


आसनसोल साउथ मंडल -1

 

बीजेपी युवा नेता बाप्पा चटर्जी को पार्टी कार्यकर्ताओं से मिला सम्मान

एक वायरल पोस्ट करने पर हुए थे गिरफ्तार, 22 को हुए थे रिहा

आसनसोल नगर निगम के मुख्यालय में लगे साइन बोर्ड को लेकर एक तस्वीर वायरल करने के आरोप में बीजेपी के पश्चिम बंगाल युवा मोर्चा के सचिव बाप्पा चटर्जी गिरफ्तार हुए थे। पिछले 22 सितंबर को उन्हें आसनसोल जिला कोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल कस्टडी से मुक्ति मिली थी। इससे बीजेपी कार्यकर्ताओं में खुशी देखी गई थी। यह खुशी अब भी दिखाई दे रही है। उन्हें तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों द्वारा सम्मानित किया जा रहा है। शनिवार को भी बीजेपी के आसनसोल साउथ मंडल 1 के कार्यकर्ताओं ने उनके जेल से रिहा होने पर खुशी प्रकट की। उन्होंने बाप्पा चटर्जी को फूलों का गुलदस्ता देकर सम्मानित किया।..मालूम हो कि बाप्पा की गिरफ्तारी होने पर बीजेपी ने बड़ा आंदोलन भी किया था।

दुर्गापूजा से 10-15 दिन पहले बोनस देने की मांग

-मंगलपुर के बालाजी इंडस्ट्रीज के समक्ष श्रमिकों का प्रदर्शन

इस समय भारत समेत दुनिया में कोरोना संकट दिख रहा है। बावजूद इसके बंगाल के सबसे बड़ा धार्मिक उत्सव  दुर्गापूजा को लेकर तैयारियां जोरों से चल रही हैं। और, इसके देखते हुए कारखानों के मजदूरों में बोनस की आशा भी जगी है…लेकिन अकसर होता है कि प्राइवेट फैक्ट्रियों के श्रमिकों को बोनस दुर्गापूजा के बाद मिलता है।..इस समझते हुए दुर्गापूजा के पहले बोनस की मांग शुरू हो गई है।..इसे मुद्दे को लेकर श्रमिक संगठन आईएनटीटीयूसी ने मंगलपुर स्थित बालाजी इंडस्ट्रीज काऱखाने के बाहर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में श्रमिक शामिल हुए। यूनियन के नेताओं ने कारखाना प्रबंधन को एक ज्ञापन सौंप कर मांग की है कि श्रमिकों को दुर्गापूजा से 10-15 दिन पहले बोनस दिया जाना चाहिए। श्रमिक नेता निर्मल पाल ने बताया है कि कारखाने के अधिकारियों ने उनकी मांगों पर गौर किया है और उचित फैसला लेने का आश्वासन दिया है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 4 =